• 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •   
  •  
    3
    Shares

इन पांच बातो का ध्यान जरुर दें कम्प्यूटर सीखने से पहले

vedantsri-computer-institute




कम्प्यूटर के दिन प्रतिदिन बढ़ते डिमांड और कम्प्यूटर क्षेत्र में रोजगार को देखते हुए आज बड़े
संख्या में छात्र-छात्रा कम्प्यूटर सीखने का मन बना रहे है | आज के दौर में देखा जाये तो
लगभग सभी क्षेत्रो में कम्प्यूटर पर निर्भर होकर कार्य किया जा रहा है |

कम्प्यूटर के बढ़ते उपयोगिता को देखते हुए इस क्षेत्र में नौकरी करने वालो की डिमांड भी
बढती जा रही है | अतः कम्प्यूटर सीखना हर ब्यक्ति के लिए अनिवार्य होता जा रहा है |
जो की छात्रो के करियर के देखते हुए जरूरी भी है |

सरकारी से लेकर प्राइवेट तक के लगभग सभी संस्थानो में कम्प्यूटर के द्वारा हिसाब-
किताब, डिजाइनिंग, रिकॉर्ड मैनेजमेंट, डेटा एंट्री, कम्युनिकेशन इत्यादी के कार्य किये
जा रहे है |इस सभी चीजो को देखते हुए छात्रो को जिस क्षेत्र में करियर बनाना है उस से
सम्बंधित कोर्सेज को चुनना व उस कोर्स को सीखना आवश्यक होता है ताकि भविष्य में
नौकरी मिलने में आसानी हो |

मगर अक्सर देखा जाता है की छात्र कम्प्यूटर कोर्सेज को करने के वाबजूद बेरोजगार रहते है
व कम्प्यूटर से सम्बंधित जो हुनर उनके पास होता है उसका अपने करियर बनाने में इस्तेमाल
नही कर पाते है |

तो आज हम जानेंगे वो पांच ऐसी बाते जिनका ध्यान कम्प्यूटर सिखने से पहले दिया जाय तो
आप अपने करियर को आसानी से बना पाएंगे
  1. प्रोजेक्ट बेसिस कम्प्यूटर शिक्षा
  2. एच.ई. बेस्ड टाइपिंग
  3. सी.जे.इ. ट्रेनिंग
  4. इंग्लिश स्पीकिंग
  5. फोर-वेज़ तकनीक द्वारा प्रशिक्षण
प्रोजेक्ट बेसिस कम्प्यूटर शिक्षा

कितने तरीके से कम्प्यूटर सिखाया जाता है?

कम्प्यूटर को दो तरीके से सिखाया जाता है एक पारंपरिक कम्प्यूटर प्रशिक्षण तकनीक दूसरा
एडवांस कम्प्यूटर प्रशिक्षण तकनीक |

क्या है पारंपरिक कम्प्यूटर प्रशिक्षण तकनीक

पारंपरिक कम्प्यूटर प्रशिक्षण तकनीक द्वारा कम्प्यूटर में सीखाये जा रहे किसी भी कोर्स में थ्योरी
के क्लास में टूल्स का नाम व कार्य लिखवाया जाता है फिर उसे समझाया जाता है तथा लैब
के क्लास में उनका प्रैक्टिकल करा दिया जाता है | अर्थात कम्प्यूटर कोर्सेज को सिखाने के
लिए दो तरीके अपनाये जाते है

1-थ्योरी 

2-लैब

क्या है एडवांस कम्प्यूटर प्रशिक्षण तकनीक

जबकि एडवांस कम्प्यूटर प्रशिक्षण तकनीक के अंतर्गत कम्प्यूटर कोर्सेज को सिखाने के लिए
तीन तरीके अपनाये जाते है |

1-थ्योरी

2-लैब

3-प्रोजेक्ट

कम्प्यूटर सीखने के लिए सिर्फ थ्योरी में टूल्स की जानकारी प्राप्त कर लेना व लैब में उसका
अभ्यास कर लेने मात्र से आप कम्प्यूटर क्षेत्र में जॉब के लिए पूरी तरह से तैयार नही होते है
तब-तक जब-तक की प्रत्येक चेप्टर सम्बंधित टूल्स की मदद से प्रोजेक्ट्स बनाना न सीख
लें |

क्या है प्रोजेक्ट्स

प्रोजेक्ट्स के अंतर्गत आपको यह सिखाया जाता है की इन टूल्स की मदद से कोई ब्यक्ति
प्रोफेशनल तरीके से कार्य कैसे करता है और एक्साम्प्ल देकर आपसे उन प्रोजेक्ट्स को बनवाया
जाता है

तो पहली जरुरी बात यह है की आप जब भी कम्प्यूटर कोर्स करें तो यह ध्यान दें की सिर्फ
थ्योरी और लैब तक आपकी कम्प्यूटर शिक्षा सिमित तो नही है |

एच.ई. बेस्ड टाइपिंग

कम्प्यूटर में आप चाहे कितना भी बड़ा व महंगा कोर्स कर लें | भले ही आप कम्प्यूटर में
डिप्लोमा, सर्टिफिकेट या इंजीनियरिंग का कोर्स कर ले पर यदि आपने इसका ध्यान नही दिया
तो क्यों न आप इंटरव्यू में कम्प्यूटर से रिलेटेड सभी जबाब दे दीजिये फिर भी आप जॉब से
डिस-क्वालीफाई हो सकते है |

क्यों जरूरी है टाइपिंग आपके लिए

अक्सर देखा जाता है की स्टूडेंट्स कोर्स को सिखने पर तो पूरा ध्यान देते है पर कम्प्यूटर
टाइपिंग को बड़े हल्के में लेते है | जिसके कारण कंप्यूटर कोर्सेज में उनकी जानकारी तो
अच्छी रहती है मगर उनकी टाइपिंग स्पीड बहुत खराब रहता है |

अतः एक बात आपको समझ लेना चाहिए की कम्प्यूटर पर कार्य करने वाले ब्यक्ति की कोर्स
से सम्बंधित जानकारी को इंटरव्यू में तब-तक नही वैल्यू दिया जाता है जब-तक की कम्प्यूटर
में जानकारी के साथ-साथ टाइपिंग स्पीड अच्छी हो |

इंटरव्यू में मात्र पांच सेकंड में आपके टाइपिंग स्पीड को कैसे चेक करते है 

मात्र 5 सेकंड में इंटरव्यू लेने वाला आसानी से पता कर लेता है की आपकी टाइपिंग स्पीड है
या नही, इसके लिए इंटरव्यू लेने वाला आपके नाम को इंग्लिश में टाइप करने के लिए कहता
है अतः जिनकी टाइपिंग स्पीड नही होती है वो हाथो के दोनों उंगलियों से एक एक बटन को
ढूढ़ते हुए टाइपिंग करते है | इसके बिपरीत जिनकी टाइपिंग स्पीड होती है वो कैंडिडेट्स दोनों
हाथो के दशो उंगलियों से स्पीड में अपना नाम वगैरह तुरंत टाइप कर देते है |

टाइपिंग स्पीड कितना होना चाहिए

कम्प्यूटर पर जॉब करने के लिए बहुत जरूरी है की आपकी टाइपिंग स्पीड न्युनतम 35
(wpm) Word Per Minute होनी चाहिए |


  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •   
  •  
    3
    Shares

2 thoughts on “इन पांच बातो का ध्यान जरुर दें कम्प्यूटर सीखने से पहले

Leave a Reply

we'll one over 10 Years of experience you always the best guidance

GET STARTED